Skip to main content

देशभक्ति की शायरी

1

श्रम के माथे से टपके, जो पानी हो तो ऐसे हो ।
वतन पर जान दे दे जो, जवानी हो तो ऐसे हो।
तिरंगा ओढ़ कर लौटा है जो सरहद की निगरानी से,
कि  हमको नाज उनपर है , कहानी हो तो ऐसे हो।

2

कोई पत्थर नहीं ऐसा , न उनपर नाज करता है ।
गिरा कर खून मिटटी पर  जो ,चमन आबाद करता है।
नमन करने को जो जाते है कट कर शिश भूमि पर,
माँ के उन लाडलो को आज दुनियां याद करता है।

3

बुलंदी और भी होती है, पर उनकी बात निराली है,
सहादत कर जो माटी चूमते है वो इतने भाग्यशाली हैं,
वतन का जर्रा जर्रा शदियों तक उनका कर्ज ढोएगा
कि अपनी जान दे कर भी करते सीमाओं की रखवाली है।
4

रुधिर जो लाल बहती नाड़ियो में, मैं उनका मान जगाऊँगा।
विप्लवी गान गा गा कर सोया स्वाभिमान जगाऊँगा।
जगाऊँगा मैं राणा और शिवा के सन्तानो को,
नारायण वीर जागेगा, मैं सोनाखान जगाऊँगा।

5

सजकर अर्थियो में जिनको तिरंगा मान देती है।
सहादत को उन वीरों के , माँ भारती सम्मान देती है।
कि उन पर नाज करती है हिमालय की शिलाएं भी,
चरण को चूम कर जिसके,  जवानी  जान देती है।

6

हजारो शत्रु आये पर , पर हमको कौन जीता है।
कभी हिम्मत के दौलत से न हमारा हाथ रीता है।
वंशज है भारत के हम ,धरम पर मर मिटने वाले,
खड्ग एक हाथ में थामे तो  दूजे हाथ में गीता है।

7

कोई दौलत पे मरता है, कोई शोहरत पे मरता है।
जो वतन से प्यार करता है, वो इस चाहत पे मरता है।
रहे खुशहाल मेरा देश और देशवासी भी,
अमर मरकर वो हो जाता है जो भारत पे मरता है।

8
शहीदो ने जिस ख़ातिर हंस कर चुम ली फाँसी। 
दिलाई कैसे कहते है हमे चरखे  ने आजादी ।
हम कैसे भूलकर उनकोएक अभी खुशियां मनाएंगे,
की जिनके खून के कीमत से हमने पाई आजादी।

9
हम हथेली पे जान रखते है।
हौसलो में  तूफ़ान रखते है।
कह दिया है मेरे देश के सेना ने,
हम भी मुह में जुबान रखते है।

10

ये कैसी देशभक्ति है हम सिर्फ नारा लगाते है।
चंद रुपियो के खातिर देशहित से जी चुराते है।
धमकाते है हमारी सेना  पर जो  तानकर  हथियार
हम चीनी माल ले लेकर उनका हौसला बढ़ाते है।




Comments

Popular posts from this blog

मोर छत्तीसगढ़ी गीत: छत्तीसगढिया शायरी

 छत्तीसगढिया शायरी

1. बहुत अभिमान मैं करथौ
छत्तीसगढ के माटी मा ।
मोर अंतस जुड़ा जाथे
बटकी भर के बसी मा।
ये माटी नो हाय महतारी ये
एकर मानतुम करव
बइला आन के चरत हे
काबरतुम्हर बारी म ।।
2
मय तोर नाव लेहुँ
अउ तोरे गीतगा के मरजाहूं ।।
जे तै इनकार कर देबे
तमय कुछु खा के मर जाहुं ।।
अब तो लगथे ये जी जाही
संगी रे तोरेमया म
अउ कह इकरार कर लेबे
त मय पगला के मर जाहुं ।।
3 मय कइसे पथरा दिल ले काबर पियार कर डारेव ।।
जे दिल ल टोर के कईथे का अतिया चार कर डारेव ।।
नई जानिस वो बैरी हा कभू हिरदे के पीरा ल
जेकर मया मय जिनगी ल

सखी

लिखूं तुम्हारे लिए सखी मैं, इस जीवन का अंतिम गान।
तुच्छ कवि की महाकल्पना
कर सके जिसपर अभिमान।मन ये चाहे टिस प्रेम की
आज तुम्हारे हृदय में भर दूँ।
और अधरों के कंपन को
शब्दों से सम्मोहित क्र दूँ।
मधुर नहीं है मेरे स्वर पर,
मैं छेडू कुछ ऐसी। तान।भावनाएं हो जाए पंछी ,
हृदय मेरा गगन हो जाए
हसी तुम्हारी  खिली रहे
जीवन मेरा मधुबन हो जाये
और चाहिए मुझे सखी क्या
इससे बड़ा कोई सम्मान।

मसिहा

जब जब लोगो पर हुए अत्याचार
लोगो ने लगाई गुहार

सर पर कफन बांधे आया मसिहा
और लडता रहा लोगो के लिए
दिन रात ।

सहता रहा आघात पत्थरों के
चुना जाता रहा दिवारों पर

चढता रहा सुलियों पर
छलनी होता रहा गोलियों से
बार बार ।

लोग बने रहे तमाशाबिन
बैठे रहे चुपचाप

 छटपटाते हुए देखते रहे
 मसिहा को
जुल्म बढता रहा
हर रोज।

और जब
 मर गया मसिहा
लोग करने लगे इंतिजार
फिर एक बार

और किसी मसिहे की
 मसिहाआएगा
 ओर हमें बचाएगा
बार- बार,
बार- बार,
बार- बार